Exclusive (वीडियो) “सुरक्षित पटना” बना जुमला ,4 दिन में फिर सड़क पर खुलेआम गुंडागर्दी, कार का शीशा फोड़ा युवक को पीटा ..

0
23

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना की सड़कों पर युवकों के विभिन्न गिरोहों द्वारा खुलेआम गुण्डागर्दी, मारपीट और गाड़ियों की तोडफ़ोड़ का सिलसिला रुकने का नाम नही ले रहा है।बस बदलता है तो इलाके या यूं कहले सड़क का नाम,पीटने वाले लड़के का चेहरा और टूटने वाली गाड़ी का कलर और बनाने वाली कंपनी का नाम। पर इस गुंडागर्दी मे एक बात एक जैसी ही होती इलाके में अपने ग्रुप की बादशाहत कायम करने की होड़ में युवकों का दल सरेआम सैकड़ो आखों के सामने पहले तो अपने शिकार यानी युवक को अपनी स्पोट्स बाइक से या कार से ताबड़तोड़ खदेड़ते है। यानी सड़कों पर खदेड़ा खदेड़ी में गाड़ियों को बेलगाम रफ्तार में दौड़ाते है। फिर जब युवक घिर जाता है तो शुरू होती है, मारपीट और वाहन को तोड़ने फोड़ने की कार्रवाही जो बीच सड़क अंज़ाम पाती है। अमूमन ऐसा सप्ताह में एक दो बार बोरिंग रोड इलाके में जरूर होता है। चुकी ये इलाका 4 थानों की जद में है। घटना को अंजाम देकर लड़को का गिरोह रफ्फूचक्कर हो जाता है। और पुलिस मेरा इलाका तुम्हारा थाना क्षेत्र हिसाब लगाते रह जाती है।

                     इसी कड़ी में फिर एक बार सोमवार की रात तकरीबन साढ़े 7 बजे के करीब बोरिंग रोड़ इलाके के गोल्ड जिम जो बिहार सरकार के एक नामवर मंत्री के निजी आवास वाले रोड पर स्थित है के करीब एक सफेद गाड़ी का गेट खोल रहे एक युवक को कुछ लड़कों ने घेर लिया और फिर गंदी गंदी गालिया देते हुए उसकी ओर झपटे औऱ दो चार थप्पड़ ही लगाया तब तक युवक ने अपनी फोर व्हीलर का दरवाजा खोला और झट से कार में बैठकर गेट लॉक कर दिया। इससे ग़ुस्साये उसपर हमला करने आये लड़को के ग्रुप ने उसके कार पर डंडे और पैरों से वार करना शुरू कर दिया। लेकिन जब कोई फायदा नही हुआ तो फिर कार के फ्रंट शीशे को मुक्कों से तोड़ना चाहा और उसपर कई वार किए।

यह पूरा वाक्या बीच सड़क जारी था और लोगो की भीड़ धीरे धीरे बढ़ती जा रही थी। तभी अचानक लड़को के ग्रुप में से एक ने कार जे शीशे पर एक पत्थर दे मारा और उसके देखादेखी अन्य ने भी पत्थर उठाया ही था कि भीड़ में से कुछ लोग आगे बढ़े और पुलिस बुलाने की बता कहने लगे। इतना सुनते ही हमलावर लड़के वहां से एक स्विफ्ट कार पर सवार होकर भाग निकले इधर कार में खुद को बंद किये लड़का भी गाड़ी लेकर वहां से भाग निकला।
हमले से बुरी तरह घबराया युवक से जब भागता हुया राजाबाजार में जाकर रुका तो पटना Live संवाददाता ने बात करने की कोशिश की तो वो डर से कांप रहा था और लगातार जान बच गई की दुहाई दे रहा था।
अब सबसे बड़ा सवाल ये है कि राजधानी पटना की सड़कों पर पुलिस के तमाम दावो के उलट लगातार जिस तरीके से खुलेआम गुंडागर्दी हो रही है, वो पटना पुलिस के सुरक्षित पटना को जुमला साबित कर रही हैं।