Exclusive -(बिग ब्रेकिंग)- बिहार के सीमावर्ती इलाके में मिले दोनो शव की हुई शिनाख्त

धर्मेन्द्र रस्तोगी,ब्यूरो कोऑर्डिनेटर, सारण

पटना Live डेस्क। बिहार से सटे यूपी के बलिया जिलान्तर्गत रेवती थाना क्षेत्र के दियारे इलाके में 23 मई की देर शाम दो अज्ञात शव अर्ध्यनग्न स्थिति में मिलने से स्थानीय ग्रामीणों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ था।रेवती पुलिस ने सारण पुलिस से पहचान के लिए सहयोग मांगी जिसकी पहचान सारण ही नही बल्कि उत्तर बिहार के दो कुख्यात अपराधी के रूप में शिनाख्त हुई है। लेकिन इस मामले में पुलिस अभी तक अपनी जुबान नही खोली है। जिसकी चर्चा जोरों पर चल रही है,सूत्रों की माने तो दोनों अपराधियो की पहचान हो चुकी है।

                   जिसमे गौरा ओपी के नेथुआ गांव निवासी शिवजी सिंह के पुत्र व सलिमापुर पंचायत के पूर्व मुखिया विजय कुमार सिंह उर्फ मुन्ना ठाकुर व संजय कुमार सिंह उर्फ टुन्ना ठाकुर के छोटे भाई संतोष कुमार सिंह उर्फ लालू ठाकुर के रूप में पहचान हुई है जबकि दूसरा अपराधी बनियापुर थाना क्षेत्र के हरीहरपुर गांव निवासी बिंदा सिंह के पुत्र लालमोहन सिंह के रूप में हुई है,इन दोनों कुख्यात अपराधियो नाम कई बैंक डकैती,लूट,रंगदारी व हत्या जैसे संगीन मामले दर्ज है,दिल्ली के इन्कम टेक्स अधिकारी जो यूपी के बलिया में ब्यय अधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्ति हुई थी वे अपने निकट संबंधी के घर सलिमापुर गांव आये हुए थे रास्त में ही लाल बत्ती वाली स्कॉर्पियो गाड़ी देख एके 47 से ताबड़तोड़ गोली चला ड्राइवर को मौत के घाट उतार दिया था जिसमे इन्कम टेक्स अधिकारी बुरी तरह से जख्मी हो गए थे,उस मामले में भी इनलोगो को आरोपित किया गया था,इसके अलावा लालमोहन सिंह के ऊपर 3 वर्ष पूर्व बनियापुर थाना क्षेत्र में पीएनबी के सवा करोड़ रुपये लूट का मामला भी दर्ज है जिसमें न्यायालय से जमानत मिल चुकी है,इधर कुछ दिनों से दोनों के अपराधी प्रवृत्ति को देख पुलिस की निंद उड़ गई थी,बताया जाता है कि यह दोनों कुख्यात अपराधी इन दिनों पूनः किसी गंभीर अपराध को अंजाम देने के लिए अपने फिराक में लगे हुए थे, जिसको लेकर पुलिस इनके गिरफ्तारी के लिए भी लगी हुई थी।

सूत्रों की मानें तो यह दोनों अपराधी यूपी के देवरिया में गैंगवार में मारे गये है। यह भी बताया जाता है कि यूपी का रहने वाला आनंद कुमार नाम का एक अपराधी भी इनके गैंग में शामिल था। कयास लगाया जा रहा है कि इन्ही के साथ लूट के हिस्सेदारी को लेकर विवाद हुई होगी और इसी मामले को लेकर अपराधियों के साथ गैंगवार में दोनों कुख्यात मारे गये है। हालाँकि इनके शव की पहचान अभी तक इनलोगो के परिजनो ने नही की है और न ही सारण की पुलिस।

“मृत शव का फोटो सबसे पहले देर रात को सारण की एसपी अनुसूइया रणसिंह साहू ने मीडिया के बीच किया थी वायरल”

दोनों अपराधियों की तस्वीर दो तीन से सोशल मिडिया पर खुब वायरल हुई थी, बताया जाता है कि सारण एसपी अनुसूईया रण सिंह ने पहचान के लिए फोटो को व्हाट्सएप ग्रुप में पोस्ट किया था ,फोटो को देख के लोग तरह तरह के कयास लगा रहे थे,लेकिन कोई भी खुल्लेआम तस्वीर की पहचान करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा है।