EXCLUSIVE (वीडियो) पटना में जरायम की दुनिया के “ब्लैक डॉग” को “कोबरा” ने घर से बुलाकर 2 साथियों की मदद से उतारा मौत के घाट

बृजभूषण कुमार, ब्यूरो प्रमुख, पटनासिटी

#घर से बुलाकर ले गए और फिर मार दी ताबड़तोड़ 3 गोलियां
#अपराध की दुनिया के पुराने साथी थे ब्लैक डॉग और कोबरा
#विगत दिनों कोबर के गैंग दीपक और कजरी ने मोहल्ले में एक लड़के को सरेआम पीटकर लहूलुहान कर दिया था, तब चिंटू ने किया था विरोध
#बताया जाता है कि कजरी कोबरा का रिश्ते का भाई है जिसे चिंटू ने झगड़े वाले दिन लप्पड़ थप्पड़ कर दिया
#परिजनों ने बताया हत्या के पीछे विगत दिनों हुई चिंटू और कजरी एवं दीपक में हुई लड़ाई मुख्य वजह है

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के आलमगंज थाना क्षेत्र में रविवार की रात घुप्प अंधेरे में दो दर्जन मुकदमो में नामज़द शातिर अपराधी ब्लैक डॉग उर्फ चिंटू गुप्ता को 2 दिन पहले जेल से बेल पर निकले उसके पुराने साथी कोबरा ने अपने 2 अपराधी साथियों के साथ मिलकर 3 गोलिया मार कर मौत के घाट उतार दिया। गोलीबारी से बचने खातिर चिंटू ने भागने की कोशिश की तो कोबरा के घर के दरवाजे पर स्थित नाले में गिर पड़ा। नाले में गिरे चिंटू को अपराधियों ने सर में गोली मार दी और मौक़ा-ए-वारदात से फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलने पर चिंटू के जानकार  युवक उसे लेकर पत्रकार नगर थाना क्षेत्र के बहादुरपुर गुमटी के समीप स्थित एक निजी नर्सिंग होम लेकर पहुचे जहां डॉक्टरों ने शुरुआती जांच के बाद उसे ब्रॉट डेड करार दिया। चिंटू को गोली मारे जाने की जानकारी पर अस्पताल पहुचे उसके परिजन और उसकी पत्नी को तब जानकारी मिली कि चिंटू की मौत हो चुकी है। वही अस्पताल में मौजूद पत्रकार नगर थाना पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने की प्रक्रिया  शुरू कर दी।

घर से बुलाकर ले गए और मार डाला                        कत्ल कर दिए गए चिंटू गुप्ता के परिजनों ने बताया कि
रात्रि 9 बजे तक चिंटू आलमगंज थाना क्षेत्र के अपने काजीबाग स्थित घर पर ही मौजूद था। लेकिन उसके पड़ोस में कुछ दूरी पर रहने वाला कोबरा जब उसे बुलाये आये तो वो घर से निकल कर उनके साथ चला गया। चुकी कोबरा चिंटू का पुराना जानकर था और दोनों एक ही मोहल्ले में रहते थे,घर मौजूद किसी ने भी उसे रोका नही और वो थोड़ी देर में आने को बोलकर निकल गया। लेकिन 10 मिनट बाद ही उसको गोली मारे जाने की खबर घरवालों को मिली। तो वो आनन फानन में अस्पताल पहुचे तो पता चला कि उसकी मौत हो चुकी है। घटना से बदहवास उसकी पत्नी और माँ बाप अन्य लोगो के साथ अस्पताल के बाहर खड़े टुकुर टुकुर निहारते नज़र आये। दरअसल, पिछले साल नवम्बर महीने हुए हमले के बाद से चिंटू गुप्ता अपनी बुआ के घर काजीबाग मे रहने लगा था। जहाँ से बुलाकर उसकी हत्या कर दी गई।                            वही दूसरी तरफ काजी बाग,खड़ा कुआ में ब्लैक डॉग की हत्या खातिर गोलियों की तड़तड़ाहट से पूरे इलाके में अफरातफरी मच गयी। दुकानों के शटर गिरने लगे। लोग अपने-अपने घरों के खिड़की दरवाजे बंद कर दुबक गये। वही दूसरी तरफ हत्या की जानकारी मिलने पर सिटी एसपी पूर्वी राजेंद्र कुमार भील,एएसपी और आलमगंज थाने की पुलिस ने मौका-ए-वारदात पर पहुंचकर मुआयना कर जानकारी हासिल कर जांच को आगे बढ़ाया।

पुराने साथी की दुश्मनी में ढेर हुआ ब्लैक डॉग       विगत दिनों जेल पर बेल से बाहर आये कोबरा और चिंटू जरायम की दुनिया मे कभी बेहद करीबी हुआ करते थे। कई मामले में एक दूसरे के मियादी भी रहे है। लेकिन पिछले कुछ महिनों से जेल में बंद कोबरा के साथियों से चिंटू की लगातार किसी न किसी बात को लेकर खटपट हो रही थी। वही इस आग में विगत दिनों काजीबाग मोहल्ले में ही कोबरा के रिश्ते के भाई कजरी से चिंटू की लड़ाई ने आग में घी का काम किया।
दरअसल कजरी को चिंटू ने विगत दिनों अपने पहचान के एक लड़के को पीटता देख मना किया तो दोनों में बहसबाज़ी हो गई और फिर चिंटू ने उसे सरेआम मोहल्ले में लप्पड़ थप्पड़ करते हुए बुरा भला कह दिया था। कजरी ने ये बात जब जेलगेट पर जाकर अपने भाई कोबरा को बताई तो वो गुस्से से बिफर उठा और चिंटू पर नज़र रखने का निर्देश दिया। फिर 2 दिन पहले जब कोबरा जेल से जमानत पर बाहर निकल कर आ गया। तो चिंटू को निपटाने की योजना बनाकर वो रविवार की शाम ब्लैग डॉग को ‘कोबरा’ ने रात नौ बजे घर से बुलाया और फिर दोनों बातचीत करते हुए चिंटू के घर से महज 400 मीटर आगे कोबरा के घर तक पहुचे ही थे कि पहले से हरबे हथियार के साथ तैयार कजरी और दीपक ने एकाएक उसके सामने आकर उसे घेर लिया। अचानक दोनों को सामने देखकर चिंटू ने अनहोनी की आंशका से पलट कर भागने की कोशिश की तब तक बहुत देर हो चुकी थी। कजरी और दीपक  ने चिंटू के शरीर मे गोलियां दाग दी। फिर भी ब्लैग डॉग ने भागने की कोशिश भी की तो उसका पैर नाले में पड़ गया और वो गिर पड़ा तब अपराधियों ने उसे सिर में गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया और हथियार लहराते हुये फरार हो गये।

बीते वर्ष 3 नवंबर को चिंटू को भी मारी गई थी गोली

उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष नवंबर महीने की 3 तारीख को भी चिंटू गुप्ता उर्फ ब्लैक डॉग को अपराधियों कदमकुआं थाना क्षेत्र के अबुलास लेंन स्थित घर से बुलाकर गोली मार दी थी। तब सही समय पर ईलाज़ के बाद चिंटू की जान बच गई थी। पटना Live ने उसवक्त भी ब्लैक डॉग पर हुए कातिलाना हमले की Exclusive Cctv फुटेज अपने पाठक से साझा किया था। ये रहा उसवक्त की घटना का वीडियों लिंक ..

                     वही, घटना के बाबत एसपी सिटी राजेन्द्र भील ने बताया कि प्रथम दृष्टया ऐसी बात सामने आ रही है कि पुरानी दुश्मनी के कारण ब्लैक डॉग की रेकी कोबरा चार दिनों से करवा रहा था। जेल से छूटते ही उसने अपने विरोधी की हत्या कर डाली। देर रात पुलिस ने हत्या के आरोपियों की तलाश में अलग-अलग जगहों पर छापेमारी शुरू कर दी है।