Exclusive – धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर की हत्याकांड का हुआ खुलासा, चार हत्याएं करने वाले शूटर को रिश्तेदार अपराधी संग यूपी एसटीएफ ने मिर्जापुर से दबोचा

0
30

पटना Live डेस्क। 21 मार्च को झारखंड के धनबाद के पूर्व डिप्टी मेयर व कांग्रेस नेता नीरज सिंह सहित चार लोगों की हत्या करने वाले एक शूटर और उसके साथी को मिर्जापुर जिला कारागार के सामने से यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है।दोनों गिरफ्तार अपरधियों की शिनाख्त अंबेडकर नगर के राजे सुल्तानपुर थाना के जगदीशपुर कादीपुर निवासी अमन सिंह और फैजाबाद के महाराजगंज थाना के ज्ञानपुर निवासी अभिनव सिंह उर्फ बट्टू के तौर पर हुई है।

गिरफ्तार अमन और अभिनव के पास से .32 बोर की दो पिस्टल,15 जिंदा कारतूस, छह मोबाइल, 11 सिम कार्ड, एक बाइक और पंद्रह सौ रुपया नकद बरामद हुआ है। दोनों को गिरफ्तार करने के बाद मिर्जापुर की कटरा कोतवाली पुलिस को सुपुर्द करते हुए एसटीएफ ने झारखंड पुलिस को गिरफ्तारी के बाबत जानकारी उपलब्ध करा दी है।


गिरफ़्तार कुख्यात अमन सिंह सुल्तानपुर में जनसंदेश टाइम्स के ब्यूरो चीफ करुण मिश्रा की हत्याकांड का अहम अभियुक्त भी है। इस मामले में यूपी एसटीएफ ने 22 फरवरी 2016 में गिरफ्तार करके जेल भेजा था।वही अभिनव उर्फ बट्टू फैजाबाद में बैंक की कैश वैन लूटने का आरोपी रहा है। बीते 21 मार्च को धनबाद में सरायढेला क्षेत्र में पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह, उनके चालक घोल्टू महतो, बाडीगार्ड मुन्ना तिवारी और पीए अशोक यादव पर सौ राउंड से अधिक फायरिंग कर हत्या कर दी गई थी।

बेहद निर्मम तरीके से अंजाम दिए इस हत्याकांड को लेकर नीरज सिंह के चचेरे भाई सूरजदेव सिंह के बेटे विधायक संजीव सिंह,जयनेंद्र सिंह,गया सिंह, महंत पांडेय और सिद्धार्थ गौतम के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो वारदात में संजय सिंह,धनजी सिंह और डब्लू मिश्रा का नाम भी सामने आया मगर शूटरों का पता नहीं लग सका। वही गिरफ्त में आए अन्य आरोपियों से पुलिस कीपूछताछ में पता चला कि पूर्व डिप्टी मेयर की हत्या करने वाले शूटर उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। इस सूचना पर एसटीएफ ने सर्विलांस और मुखबिरों की मदद से शूटरों की खोजबीन शुरू की।

उल्लेखनीय है कि उस बेहद चर्चित हत्याकण्ड शुरुआती तफ़्तीश में ही धनबाद पुलिस को स्टील गेट के पास पूर्व डिप्टी मेयर नीरज सिंह और उनके तीन समर्थकों पर गोली चलाने वालों में पंकज कुमार सिंह के शामिल होने की पुख्ता जानकारी मिल गई थी। साथ ही यह जानकारी भी जुटा ली गई कि वह उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर के लंभुआ थानाक्षेत्र के वृधापुर का रहने वाला है। तब से उत्तर प्रदेश की एसटीएफ की टीम के साथ धनबाद पुलिस पंकज की तलाश में जुटी है। वाराणसी से लेकर सुल्तानपुर तक कई जगहों पर पंकज के बाबत टोह लिया गया।


कुख्यात पंकज कुमार सिंह नीरज सिंह की हत्या से पूर्व कुसुम विहार में सिंफर के रिटायर्ड एचओडी आरए राय के घर किराए पर रह रहा था। डबलू मिश्रा के साथ वह भी एक महीने तक कुसुम विहार वाले घर में शरण लिए हुए था। कुसुम विहार में धोखे से ठहरने के मामले में दर्ज एफआइआर में पुलिस ने पंकज सिंह की पहचान का जिक्र किया था। पुलिस के पास पंकज की फोटो है,जिसकी पहचान मकान मालिक ने भी की। पुलिस को पक्की सूचना मिली कि पंकज ने अपने साथी संतोष व अन्य के साथ मिलकर नीरज सिंह पर गोलियां चलाई थीं।
इस बाबत झारखंड पुलिस ने यूपी एसटीएफ को यूपी के इन चिन्हित शूटरों की गिरफ्तरी खातिर मदद की गुहार लगाई। यूपी एसटीएफ को पता चला कि पूर्व डिप्टी मेयर की हत्या में शामिल रहे शूटरों में से एक अमन सिंह है। वारदात के बाद अमन की लोकेशन आजमगढ़, अंबेडकरनगर, फैजाबाद, गोंडा, बस्ती, मिर्जापुर, इलाहाबाद और वाराणसी में मिली।अमन सिंह की निगरानी शुरू की गई तो पता चला कि वह बुधवार को मिर्जापुर जिला कारागार में कैद कुख्यात मुन्ना बजरंगी के विश्वस्त शूटर रिंकू सिंह से मिलने आने वाला है। इस सूचना पर एसटीएफ वाराणसी इकाई के डिप्टी एसपी विनोद कुमार सिंह के निर्देश पर इंस्पेक्टर शैलेष सिंह व पुनीत परिहार और एसआई अमित श्रीवास्तव व अंगद यादव की टीम ने छापेमारी कर अमन और उसके साथी अभिनव सिंह को गिरफ्तार किया। इसी अमन द्वारा अयोध्या, इलाहाबाद एवं सिंगरौली,मध्यप्रदेश में तीन अलग अलग घटनाओं को अंजाम देना था ।

Loading...