बिहार प्रदेश कांग्रेस में ठीक नहीं है सबकुछ,मौके के इंतजार में विधायक,संख्याबल जुटाने का हो रहा इंतजार!

पटना Live डेस्क. बिहार कांग्रेस में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है..जानकारों की मानें तो केंद्रीय नेतृत्व के सख्त रुख का भी असर प्रदेश कांग्रेस के नेताओं पर पड़ता नहीं दिख रहा है..जानकारों की मानें तो प्रदेश कांग्रेस के कुछ विक्षुब्ध विधायकों ने अंदर ही अंदर एक गुट बना लिया है.. और उन्हें इंतजार है इस बागी गुट में कुछ और विधायकों के शामिल होने की.. जिससे संख्याबल पूरा हो जाए… कहा जा रहा है कि इस बागी गुट में कुल 14 विधायक हैं जो पाला बदलकर जेडीयू का दामन थाम सकते हैं लेकिन पर्याप्त संख्या नही होने के चलते ये विधायक फिलहाल वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं..प्रदेश में कांग्रेसी विधायकों की संख्या वर्तमान में 27 है अगर पार्टी में टूट होती है तो कम से कम दो तिहाई यानि 18 विधायकों का पार्टी से टूटना जरुरी है तभी बागी गुट के विधायकों की विधायकी बची रह सकती है..पार्टी विधायकों की इसी नाराजगी को देखते हुए पिछले दिनों ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी और वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह को सोनिया गांधी ने दिल्ली तलब किया था..हालांकि दिल्ली में हुई बैठकों के बाद यह कहा जा रहा था कि सोनिया गांधी के कड़े रुख के चलते पार्टी में फिलहाल सबकुछ ठीक हो गया है…लेकिन जमीनी स्तर देखा जाए तो पार्टी विधायकों के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है और वो केवल संख्याबल जुटाने के चलते शांत बने हुए हैं…

प्रदेश कांग्रेस में विधायकों के बागी रुख को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं जोरों पर हैं…फिलहाल राज्य में कांग्रेस के 27 विधायक के अलावा छह विधानपार्षद हैं…इनमें से दो विधायक और दो विधानपार्षद पिछले महागठबंधन सरकार में मंत्री थे…और बाकी विधायक इस इंतजार में थे कि उन्हें भी बोर्ड..निगमों के मलाईदार पद मिलेंगे लेकिन सरकार के गिरते ही इन विधायकों की उम्मीदें धरी की धरी रह गईं…

अब जब नीतीश ने महागठबंधन सरकार से रिश्ता तोड़ लिया तो कांग्रेस विधायकों की असमंजस खत्म हो गई और उनकी निराशा अब खुलकर सामने आने लगी.. हालांकि जेडी(यू)-बीजेपी गठबंधन को बहुमत का समर्थन हासिल है, लेकिन सियासी गलियारे में इस बात की चर्चा है कि कांग्रेस में फूट पड़ने से नीतीश कुमार को विरोधियों से निपटने में ज्यादा आसानी होगी..

 

हालांकि कांग्रेस के कुछ नेता इस बात से साफ इऩकार कर रहे है कि पार्टी में टूट की हालत है…पार्टी के ये वरिष्ठ नेता पार्टी में गड़बड़ियों के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दोषी ठहरा रहे हैं..