Big News – (Pics) पूर्वांचल के डॉन कुख्यात शूटर मुन्ना बजरंगी बागपत जेल में ढेर, मारी गई 10 गोलिया, सुनील राठी ने दिया अंजाम

पटना Live डेस्क। यूपी के पूर्वांचल के कुख्यात माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के खासम-खास माने जाने वाले और BJP विधायक रहे कृष्णानंद राय की हत्या के आरोपी रहे  शूटर मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई है। बागपत जिला जेल में अंडरवर्ल्ड डॉन प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस वारदात के बाद जेल प्रशासन से लेकर लखनऊ तक अधिकारियों में हड़कंप मच गया है। मुन्ना बजरंगी की हत्या के पीछे वेस्ट यूपी और उत्तराखंड में सक्रिय सुनील राठी गैंग का हाथ बताया जा रहा है।  रंगदारी के मामले रविवार की रात ही झांसी से बागपत लाए गए मुन्ना बजरंगी की जेल में 10 गोलियां मार कर हत्या की गई। जेल में हुई हत्या से जेल के साथ पुलिस प्रशासन में भी हड़कंप मचा है।अधिकारियों के साथ वकीलों ने भी जेल पर डेरा डाल रखा है।

वहीं,इस सनसनीखेज घटना के बाद बागपत जेल के जेलर, डिप्टी जेलर समेत चार जेलकर्मियों का सस्पेंड कर दिया गया है। उधर, सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूरे मामले को संज्ञान में लेते हुए मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं। कई बड़ी आपराधिक वारदातों में बजरंगी का नाम सामने आया था। मुन्ना बजरंगी के परिजनों ने पहले ही आशंका जताई थी कि बागपत जेल में उनकी हत्या हो सकती है। 29 जून को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह ने कहा था कि जेल में उनके पति की जान को खतरा है। दरअसल मिली जानकारी के अनुसार दो साल पूर्व बड़ौत के पूर्व विधायक लोकेश दीक्षित ने पूर्वांचल के कुख्यात मुन्ना बजरंगी पर रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया था। सोमवार को बागपत कोर्ट में पेशी के लिए रविवार रात ही बजरंगी को सुरक्षा के बीच झांसी से बागपत जेल भेजा गया था।

हत्या के बाद हथियार डाला गटर में

                     सूत्रों के मुताबिक, रविवार सुबह करीब छह बजे आधा दर्जन गोलियां चलने की आवाज आई। कुछ देर बाद बजरंगी की हत्या का शोर जेल में गूंज उठा। अधिवक्ता के मुताबिक,मुन्ना बजरंगी के सिर में 10 गोलियां मारी गई हैं। इतना ही नहीं,माफिया की हत्या के बाद हथियार को गटर में डाल दिया गया है।

दो साल पूर्व बड़ौत के पूर्व विधायक लोकेश दीक्षित ने पूर्वांचल के कुख्यात मुन्ना बजरंगी पर रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया था। सोमवार को बागपत कोर्ट में पेशी के लिए रविवार रात ही बजरंगी को सुरक्षा के बीच झांसी से बागपत जेल भेजा गया था

जताई थी हत्या की आशंका,सुनील राठी पर गहराया शक

अधिवक्ता के मुताबिक, मुन्ना की पत्नी सीमा ने कुछ दिन पहले ही लखनऊ कोर्ट में पति की बागपत में हत्या होने की आशंका जताते हुए पेशी पर नहीं भेजे जाने की मांग की थी। आरोप है कि हत्या करने के लिए ही बागपत बुलाया गया था। आरोप यह भी है कि बागपत सीजेएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग नहीं कराई। वकीलों के अनुसार, बजरंगी की तबीयत भी खराब थी, इसलिए मुन्ना बजरंगी को एम्बुलेंस में लाया गया था। मुन्ना बजरंगी की हत्या में गैंगस्टर सुनील राठी और उसके शूटर पर शक जताया जा रहा है। सुनील राठी भी बागपत जेल में  बंद है।

रंगदारी से जुड़े एक केस के सिलसिले में मुन्ना की कोर्ट में पेशी होनी थी। मुन्ना बजरंगी की गिनती पूर्वांचल के कुख्यात अपराधियों में होती है।

परिवार ने जताई थी हत्या की आशंका उन्होंने हत्या की साजिश का आरोप लगाते हुए यूपी प्रेस क्लब में प्रेसवार्ता की थी। इस दौरान उनके साथ मुन्ना बजरंगी के वकील विकास श्रीवास्तव भी मौजूद थे। सीमा सिंह ने अपने पति मुन्ना बजरंगी को यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और पुलिस के उच्चाधिकारियों द्वारा फर्जी एनकाउंटर में मारे जाने की साजिश रचने का आरोप लगाया था।

कुछ प्रभावशाली व्यक्तियों का बगैर नाम लिए सीमा सिंह ने कहा था कि साजिश रचकर कई बार उनके पति को जेल में ही जान से मारने का प्रयास किया जा चुका है। इस संबंध में सीमा सिंह ने पुलिस के कई बड़े अधिकारियों के खिलाफ न्यायालय में भी शिकायत की थी।