Exclusive – कैसे सफल होगा डीआईजी का “माई गंगा ऑपरेशन” जब ब्रिफीग में ही थानेदार पुर सुकून नींद में ग़ाफ़िल हो गए

पटना Live डेस्क। केंद्र के नमामी गंगे कार्यक्रम को लेकर पूरे देश मे अभियान जारी है। इसी कड़ी में अब तक पटना पुलिस की टीम सिर्फ क्राइम कंट्रोल और लॉ एंड ऑर्डर को संभालने में ही लगी थी।लेकिन अब यही टीम गंगा नदी की सेफ्टी के लिए काम करेगी।मनेर से लेकर हाथिदह तक गंगा नदी को ‘क्राइम फ्री जोन’ बनाएगी।पटना जिले के अंदर गंगा नदी का दायरा 120 किलोमीटर के रेंज में है। अब इस कार्यक्रम में सेट्रल रेंज की कमान हर थाने की पुलिस टीम अपने-अपने इलाके में संभालेगी।उल्लेखनीय है कि पटना जिले के 20 थाना के क्षेत्रों से गंगा नदी हो कर गुजरती है। क्राइम के साथ ही गंगा को प्रदूषण मुक्त बनाने की कवायद शुरू कर दी गई है।जिसका नाम है ‘ऑपरेशन माई गंगा’। सेंट्रल रेंज के डीआईजी राजेश कुमार की ये एक अनोखी पहल है। शनिवार को पटना के गांधी घाट पर डीआईजी ने एक मीटिंग ली।जिसमें सभी सिटी एसपी, ग्रामीण एसपी,कई एसडीपीओ और 20 थानों के थानेदार मौजूद थे। इन सबों के बीच ऑपरेशन माई गंगा के पूरे प्‍लान को डिटेल से डीआईजी ने ब्रीफ किया।

                            अब जरा देखिये डीआईजी साहब की इस अनोखी और सराहनीय पहल जिन कंधो पर है। उनका हाल देखिये डीआईजी स्वय धारा प्रवाह इस बाबत कैसे क्या करना है किन मुद्दों ओर विशेष ध्यान देना है इस बाबत ब्रीफिंग दे रहे है और दीघा के थानेदार गोल्डेन कुमार मस्त नींद में ग़ाफ़िल है।
अब आप ही सोचिए डीआईजी साहब की मौजूदगी के साथ साथ 2 एसपी की मौजूदगी ये हाल है तो फिर ?