भागलपुर: सृजन के सभी पदधारकों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज,सभी पदधारक हैं महिला,खाते फ्रीज

52

पटना Live डेस्क. भागलपुर के सृजन घोटाले में सबौर प्रखंड सहकारिता प्रसार पदाधिकारी ने सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड के सभी पदधारकों के खिलाफ सबौर थाने में आपराधिक मामला दर्ज कराया है.

आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जीवाड़ा समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. इन पर सबौर थाना कांड संख्या 241/17, दिनांक 23/08/17 धारा 409/420/467/468/471/120(बी)/34 आईपीसी दर्ज की गई है. सदर इंस्पेक्टर मो. इमामुल्लाह को केस का इन्वेस्टिगेशन अफसर बनाया गया है. दिलचस्प बात यह कि सृजन संस्था की सभी पदधारक महिला हैं.

इनपर दर्ज हुआ है मामला

  1. शुभलक्ष्मी प्रसाद, पति – डॉ. विनोदानंद प्रसाद (अध्यक्ष)
  2. रजनी प्रिया, पति – अमित कुमार (सचिव)
  3. सीमा देवी, पति – प्रणय कुमार
  4. जसीमा खातून,  पति – मो. शकील अहमद
  5. राज रानी वर्मा, पति – समर समरेन्द्र
  6. अर्पणा वर्मा, पति – अभिषेक कुमार
  7. रूबी कुमारी, पति – विपिन वर्मा
  8. रानी देवी, पति – रवि पासवान
  9. सुनीता देवी, पति – बबलू हरिजन
  10. सुना देवी, पति – जगदीश तांती

 

क्या है आरोप

समिति की सभी 10 पदधारकों पर आरोप है कि उन्होंने निबंधक सहयोग समितियां, बिहार के मानदंडों का उल्लघंन कर सरकारी राशि का फर्जीवाड़ा किया.

इसके अलावा संयुक्त रूप से तथ्यों को छुपाने, बैंकों के साथ किए जा रहे लेनदेन का आंशिक तथ्य रखने जैसे आपराधिक कृत करने, एके मिश्रा एंड एसोसिएट द्वारा जानबूझकर फर्जी स्टेटमेंट बनाने, गलत जानकारी देने, संबंधित अधिकृत व्यक्ति को अपेक्षित जानकारी नहीं देने को लेकर केस दर्ज किया गया है.

जिला भू-अर्जन कार्यालय में 10.26 करोड़ का फर्जीवाड़ा उजागर होने के बाद जिला सहकारिता पदाधिकारी ने एसएसपी मनोज कुमार को पत्र लिख सृजन के सभी पदधारकों के चल रहे विभिन्न बैंकों में खातों को फ्रीज कराने का अनुरोध किया था. एसएसपी के आदेश पर बैंकों ने सभी पदधारकों के खातों को फ्रीज कर दिया है.

पुलिस ने सृजन की संस्थापक मनोरमा देवी के बेटे अमित कुमार, बहु प्रिया कुमार और पूर्व भू-अर्जन पदाधिकारी, वर्तमान में जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी राजीव रंजन सिंह के खिलाफ न्यायालय में गिरफ्तारी वारंट के लिए अर्जी दी थी. बुधवार को तीनों के खिलाफ कोर्ट ने वारंट जारी कर दिया है. पुलिस की मानें तो तीनों की गिरफ्तारी के लिए एसआइटी की दो टीमें रवाना हो गई है.