केंद्रीय नेताओं के सामने राज्य कांग्रेस में दिखा असंतोष,सदानंद सिंह ने कहा ‘एकला चलो’

13

पटना Live डेस्क. दिल्ली से आए केंद्रीय नेताओं की अगुवाई में पटना के सदाकत आश्रम में आयोजित कांग्रेस नेताओं की बैठक में असंतोष साफ नजर आया. शीर्ष नेतृत्व की तरफ से ज्योतिरादित्य सिंधिया और जेपी अग्रवाल पटना पहुंचे थे लेकिन विधायकों की बुलाई गई बैठक में 27 विधायकों में से चार विधायक बैठक से गायब रहे. स्थानीय कांग्रेस की एक नेता सरवत जहां फातिमा ने बिहार कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी को पद से हटाने की मांग कर दी. उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष का पद अपने में आप में काफी महत्वपूर्ण है. ऐसे में उन्हें मंत्री भी बनाया गया. बतौर मंत्री उन्होंने पार्टी की हितों का ख्याल नहीं रखा लिहाजा अध्यक्ष पद से उन्हें हटा देना चाहिए.

बैठक से अररिया के अविदुर रहमान, बहादुरगंज से तौशिफ आलम, किशनगंज से मोहम्मद जावेद और अमौर से अब्दुल जलील मस्तान गायब रहे. ये सभी विधायक मुस्लिम बहुल सीमांचल से ताल्लुक रखते हैं.इस मौके पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना की और कहा कि सरकार के खिलाफ कांग्रेस के सारे विधायक एकजुट हैं.

वहीं बैठक के दौरान पार्टी नेताओं में असंतोष साफतौर से दिखा. ज्योतिरादित्या सिंधिया और बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चौधरी ने जिला पदाधिकारियों से अलग जब बैठक कर रहे थे तो 50 से ज्यादा नेता और कार्यकर्ता नारेबाजी कर रहे थे लेकिन उनकी मांगों को अनसुना कर दिया गया. पूर्व स्टेट वाइस प्रेसिडेंट प्रवीण कुमार ने कहा कि यही हाल रहा तो यहां से पार्टी खत्म हो जाएगी.

राज्य में  राजद से गठबंधन जारी रखने की बात पर बोलते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि इस मुद्दे पर राज्य ईकाई फैसला करेगी.सिंधिया ने राजद की रैली में कांग्रेस के भाग लेने के सवाल पर भी गोल मटोल जवाब दिया. वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने राज्य में एकला चलो की बात पर जोर दिया. सदानंद सिंह ने कहा कि कांग्रेस को राज्य में सभी क्षेत्रीय दल ने ठगने काम किया है इसलिए कांग्रेस को राज्य में अकेले चलना चाहिए.कांग्रेस नेताओं ने पटना के गांधी मैदान में अक्टूबर में रैली आयोजित करने की भी बात कही.