गया: दशरथ मांझी की प्रतिमा का सीएम ने किया अनावरण,कहा-मांझी के कार्यों से सीख ले नई पीढ़ी

19

पटना Live डेस्क. पर्वत पुरुष स्व दशरथ मांझी की याद में राज्य सरकार ने दशरथ महोत्सव का आयोजन किया. इस महोत्सव के मौके पर गेहलौर घाटी की तराई में दशरथ मांझी की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया गया. प्रतिमा का अनावरण सूबे के सी एम नीतीश कुमार ने किया.

इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि मैं अपने कार्यकाल में पहली बार गेहलौर आया हूं. आज मुझे दशरथ मांझी के किये कार्यों को प्रत्यक्ष रुप से देखने का मौका मिला. पहले से केवल इनके कार्यों को जानते थे जिसे देखने का सपना था.

सीएम ने कहा कि बाबा दशरथ मांझी मगध की धरती से हैं. पहले यह ज्ञान की भूमि थी लेकिन पर्वत पुरुष के संकल्प से यह कर्म की भूमि भी बन गई, निर्माण की भूमि बन गई. मगध ऐसा क्षेत्र है जहाँ ज्ञान, मोक्ष और निर्माण सभी कुछ का संगम है. इनके द्वारा घाटी कटकर बनाये गये सड़क की उंचाई कम किया जायगा ताकि दोनों तरफ़ से आवागमन सुगम हो सके.

नीतीश कुमार ने कहा कि हमने इस स्थल को यादगार इसलिए बनाने की कोशिश की है कि हमारे साथ- साथ नई पीढी भी बाबा के कार्यों से सीखे. यह समझे कि यदि हमारा संकल्प सही है तो दुनिया का कोई भी कठिन से कठिन कार्य आसानी से किया जा सकता है.

वहीं उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी ने कहा कि पर्वत पुरुष स्व दशरथ मांझी सिर्फ गहलौर और गया के ही आदर्श नही है, बल्कि सम्पूर्ण देश और दुनिया के आदर्श हैं. हमें इनके आदर्शों का पालन करना चाहिए. राज्य सरकार ने स्व मांझी की प्रेरणा से एक छोटा सा संकल्प लिया है कि प्रदेश के हर गरीब के घर मे शौचालय हो. अगले वर्ष के नवम्बर तक कोई भी ऐसा घर नहीं होगा जिसमें शौचालय नही होगा.

महोत्सव में बाबा दशरथ मांझी के हजारों अनुयायियों ने भाग लिया. क्षेत्र में इस महोत्सव को लेकर काफी उत्साह का माहौल है.