Super Exclusive(Cctv फुटेज) पटना में थाने के बाहर हुए हत्या का सच, कैसे हुई सरेआम हत्या, कैसे और किन रास्तो से अपराधी हुए फरार -एक पड़ताल

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के अतिसुरक्षित माने जाने वाले  मोइनुल हक स्टेडियम गुरुवार की अहले सुबह गोलियों की आवाज से दहल गया। घटना सुबह करीब 6:30 बजे की है। रोज की तरह दारोगा भर्ती की तैयारी कर रहे अमन कुमार स्टेडियम में दौड़ की   प्रैक्टिस करने आए थे।इसी दौरान कुछ अपराधियों ने हमला कर दिया। अपराधियों ने अमन के सीने में गोली मार दी। वहीं, पास मौजूद उदय के पैर में भी अपराधियों की गोली लगी। वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधी मौके से भाग निकले।
घटना की सूचना मिलने पर पुलिस आई, लेकिन सीमा विवाद के चलते गंभीर रूप से घायल अमन को हॉस्पिटल ले जाने में देरी हुई। अमन ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। वहीं, उदय को इलाज के लिए पीएमसीएच में भर्ती किया गया है। हत्या के बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वहीं, एक कदमकुआं थाने के एक एएसआई अरुण पासवान को निलंबित कर दिया गया है।
मृतक की शिनाख्त अमरनाथ झा के रूप में की गई है, जो लैब टेक्नीशियन का काम किया करता था  पुलिस के मुताबिक अमरनाथ आज सुबह अपने दोस्त के साथ मोइनुल हक स्टेडियम में मॉर्निंग वॉक पर निकला हुआ था उसी दौरान अपराधियों ने दोनों पर गोली चला दी। इस घटना में अमरनाथ झा की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसका दूसरा दोस्त बुरी तरीके से घायल हो गया।उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।

सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि अपराधियों ने हत्या की इस घटना को अंजाम कदमकुआं थाने के ठीक बाहर दिया जो कि मोइनुल हक स्टेडियम के पास है।अमरनाथ झा का शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और पुलिस इस घटना की जांच में जुट गई है।