BiG News – मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड की जांच कर रहे CBI के एसपी का जे पी मिश्रा का हुआ ट्रांसफर विथ इमेडीएट इफेक्ट

888

पटना Live डेस्क। मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की जाँच कर रही सीबीआई की वजह से सूबे के तमाम  सफेदपोशो और तीन बड़े आईएएस अधिकारियों के इर्द गिर्द कसते शिकंजे को देखते हुए आखिरकार जांच एजेंसी को ही झटका दे दिए गया। मिली जानकारी की अनुसार सीबीआई दस्ते को लीड कर रहे SP का जेपी मिश्र का महज 20 दिनों में ही ट्रांसफर कर दिया गया है। अब लखनऊ में पदस्थापित सीबीआई के एसपी देवेंद्र सिंह को पटना सीबीआई एसपी का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। यानी मुजफ्फरपुर कांड की जांच अब देवेंद्र कुमार के नेतृत्व जारी रहेगा।
दरअसल, मुजफ्फरपुर कांड की जांच कर रहे जेपी मिश्रा बेहद कडक और ज़ीरों टॉलरेंट माने जाते है। मिश्रा के नेतृत्व में विगत दिनों सीबीआई दस्ते ने ताबड़तोड़ बड़ी कार्रवाई कर शहर में सरगर्मी बढ़ा दी थी।एक साथ पटना, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी व बेगूसराय में छापेमारी से ब्रजेश के करीबी बड़े अधिकारियों व सफेदपोशों की बेचैनी बढ़ गई। उन्हें डर सताने लगा है कि उनसे कभी भी सीबीआई पूछताछ कर सकती है।
सीबीआई ने एक हफ्ते के अंदर में दो बड़ी कार्रवाई की। 11 अगस्त को बालिका गृह की मैराथन जांच व 17 अगस्त को एक साथ दर्जन भर से अधिक जगहों पर छापेमारी की। सीबीआई की कार्रवाई से ब्रजेश के संबंधी से लेकर उसके पहचान वालों के दिलों की धड़कनें बढ़ गई हैं।शहर के चौक-चौराहों पर भी इसकी चर्चा होती रही। सूत्रों के मुताबिक सीबीआई आने वाले दिनों में पूछताछ के लिए नये नामों की भी सूची तैयार कर रही है।

अन्य आरोपितों के घरों की भी छानबीन की चर्चा

शनिवार को जेल में बंद अन्य आरोपितों के घरों पर भी सीबीआई के पहुंचने की चर्चा होती रही। सूत्रों के अनुसार, सीबीआई के कुछ अधिकारियों ने अन्य आरोपितों के घरों की भी छानबीन की है। साथ ही आस-पड़ोस से जानकारी एकत्रित की।

समारोह में शरीक होने वालों पर भी CBI की नजर

सीबीआई की नजर ब्रजेश के घर पूर्व में हुए समारोह में शरीक होने वालों पर भी है। सीबीआई यह पता लगाने में जुटी है कि उस समारोह में किस तरह के लोग आए थे। उनका बैकग्राउंड कैसा था। सूत्र बताते हैं कि ब्रजेश के घर होने वाले समारोह में उसके कई करीबी, राजदार व कारोबारी साथी भी एकत्रित होते थे। सीबीआई वैसे लोगों की पहचान कर पूछताछ कर सकती है। बालिका गृह में जांच के दौरान सीबीआई को कई समारोह के फोटोग्राफ्स भी मिले थे।
एसपी मिश्रा मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न कांड किंगपिन ब्रजेश ठाकुर का पॉलिटिकल कनेक्शन तलाशने की अपनी कार्यशैली को लेकर बेहद सुर्खियों में आ गए थे। कांड की जांच का जिम्मा मिलने के बाद उन्होंने बिना वक्त गवाये पूर्व मंत्री मंजू वर्मा से भी पूछताछ की उनके पति चंद्रशेखर वर्मा को सीबीआई की जांच के ज़द में लाने वाले एसपी जे पी मिश्रा के तबादले से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। जे पी मिश्रा का तबादला पटना रेंज के डीआईजी कार्यालय में किया गया है।
वही, अब जांच दल के एसपी जे पी मिश्रा के तबादले के  बाद यह तय माना जा रहा है कि विपक्ष इसे भी सियासी मुद्दा बनाकर सरकार को घेरने की कोशिश करेगा। जाहिर है तेजी से बढ़ते जांच के बीच जे पी मिश्रा का तबादला किन वजहों से हुआ इसे लेकर आम लोगों के दिलो-दिमाग में भी कई सवाल घूम रहे हैं।