गरदनिया बुझते है? नही कोई बात नही ऑनलाइन Live डेमोंस्ट्रेशन BNMU के प्रॉक्टर आपको उदाहरण के साथ बता रहे है …देखिए और सीखिए

0
19

पटना Live डेस्क। सूबे में जिन के कंधो पर छात्रों को अनुशासन का पाठ पढ़ाने की जिम्मेदारी है।वो खुद कितने अनुशासित है। इसका प्रमाण बिल्कुल साफ साफ दिखाई दिया है जो लगातार वायरल होता जा रहा है। बीते पांच जनवरी को सहरसा शहर के आरएम कॉलेज में बीएड में बेटे का एडमिशन नहीं होने के बाद जो तांडव एक प्रॉक्टर ने किया उसका फायदा तो उन्हें उनके बेटे के बीएड कोर्स में एडमिशन के तौर पर प्राप्त हो गया है। लेकिन जो उन्होंने “गरदनिया” दाव चलकर आरएम कॉलेज के उम्रदराज प्रिंसिपल डॉ आरबी झा का मान मर्दन करते हुए अपनी उदंडता, गाली गलौज करने की क्षमता और दबंगई का नग्न प्रदर्शन किया हैं। अब उसका वीडियो के माध्यम से चहुओर उनके बाहुबल का डंका बज रहा है।

दंबगई के प्रदर्शन का असली कारणबिहार के सबसे चर्चित और विश्विद्यालय भूपेंद्र नारायण मंडल विश्विद्यालय अंतर्गत आने वाले सहरसा के राजेन्द्र मिश्र कॉलेज द्वारा बीएड में वर्ष 2017-19 सत्र के एडमिशन के लिए आयोजित प्रवेश परीक्षा में कॉलेज प्रशासन द्वारा प्रथम सूची में 70 प्रतिशत अंक लाने वाले छात्रों को नामांकन की अनुमति दी गयी। इसके बाद बची सीट होने पर 65 प्रतिशत अंक लानेवाले छात्रों को मौका दिया गया। जबकि प्रॉक्टर BNMU के साहबजादे संजीव कात्यायन को प्रवेश परीक्षा में 50 प्रतिशत अंक ही प्राप्त हुए थे। आरोप लग रहे हैं कि ऐसे में प्रॉक्टर डॉ अरविंद कुमार ने अपने प्रभाव का गलत उपयोग करते हुए प्रो वीसी का एक पत्र कॉलेज प्रशासन को थमा दिया। इसमें नामांकन लेने का आदेश दिया गया था।इस आदेश पर नियम के विरुद्ध नामांकन लेने से प्राचार्य डॉ झा ने इंकार कर दिया। फिर क्या था भड़के प्रॉक्टर ने कॉलेज पहुंच कर सभी मर्यादाओं को तार तार करते हुए अपनी गरिमा का भी ख्याल न करते हुए बिल्कुल दरकिनार कर प्राचार्य से न केवल धक्का-मुक्की कर दी बल्कि “गदनिया” देते हुए ऑफिस में जबरिया ले जाने की कवायद कर दी। लेकिन वो भूल गए कि एक तीसरी आंख भी है जो सब कुछ देखती है। प्रॉक्टर की दबंगई और गुंडा एक्ट अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।                    ‘गरदनिया’ क्या है सोदाहरण सीखे

वायरल वीडियो में साफ साफ दिखता है कि प्रॉक्टर अरविंद कुमार आरएम कॉलेज के शिक्षकों के सामने ही सीढ़ी से उतरते उम्रदराज प्राचार्य डॉ आरबी झा को गर्दन से दबोच लेते है फ़िर जबरिया उन्हें ऑफिस की ओर ले जाते है। इसे ही “गरदनिया” वार कहते है। इसके साथ धक्का मुक्की और गाली गलौज देने की भी कलुषित परांपरा रही है। निराश न हो ये दोनों परमपरांए भी सोदाहरण अरविंद कुमार द्वारा प्रदर्शित की जाएगी।
इस वीडियो में पांच से छह बार प्राचार्य के साथ धक्का-मुक्की भी की जा रही है। इसके अलावा वीडियो में प्रॉक्टर चिल्लाते हुए कहते है ..कैसे नहीं लीजियेगा एडमिशन… आपके दादा का मजाल है… : वीडियो में प्रॉक्टर अरविंद कुमार प्राचार्य डॉ आरबी झा को एडमिशन नहीं लेने पर धमकी देते कहते हैं कि…हम चाह लेंगे तो शहर में जी नहीं पाइयेगा…कॉलेज में नौकरी नहीं कर पाइयेगा…….कैसे नहीं लीजियेगा एडमिशन…आपके दादा का मजाल है… दिमाग को खोल लीजिए…आपका घर जाना भी बंद हो जायेगा… ये बेवकूफ प्रिंसिपल है,प्रो वीसी के आदेश को नहीं मानते हैं…इसी प्रकार प्रॉक्टर लगातार अनाप-शनाप बोलते रहे।


असंसदीय शब्दों का प्रयोग करते हुए पद की गरिमा को तार-तार करते नजर आ रहे हैं।मौके पर मौजूद शिक्षक व छात्रों के रोकथाम करने पर भी प्रॉक्टर दबंगई दिखाने से बाज नहीं आ रहे हैं।