Big News (वीडियो)सुशासन की अजब पुलिस की गजब करतूत – अब मुफ्त में आम नहीं देने पर दुकानदार की उधेड़ दी खाल

पटना Live डेस्क। बिहार की सुशासन पुलिस किस कदर बेलगाम और गुंडागर्दी पर उतारू हो चुकी है इस का खुलासा तब हुआ जब राजधानी पटना में “रंगदारी में तरकारी” मामले में नाबालिक लड़के को झुठे मामले में जेल भेजने का मामला मीडिया की सुर्खियां बनी। यह मामला अभी ठंडा भी नही हुआ था कि खगड़िया में  पुलिसकर्मियों ने शायद “हम नही सुधरेंगे” की तर्ज़ पर बर्बरता की एक नई इबारत लिख दी है।
अब खगड़िया मे एक फल विक्रेता पर बिहार पुलिस में दरिन्दगी की इंतहा कर दी। इस बर्बरतापूर्ण कार्रवाई का सच जानकर आप सन्न रह जाएंगे। मिली जानकारी के अनुसार जिले के गोगरी थाना क्षेत्र के मुख्य बाजार जमालपुर टावर चौक पर गोगरी निवासी फल विक्रेता शंभू साव के यहां गुरुवार को गोगरी थाने के ही पुलिसकर्मी आए और ढाई किलो आम खरीदने की बात कही तो दुकानदार ने आम तौल दिए। जब दुकानदार ने आम का पैसा मांगा तो  पुलिस वाले ने खुद को थाना का स्टाफ़ बताया, तब भी जब फलवाले ने मुफ्त में आम देने से मना कर दिया तो गाली गलौज करते हुए उसे देख लेने की भी धमकी दे डाली और फिर चले गए।शुक्रवार को शभु पर बरपाया कहर

रोज़मर्रा की तरह शम्भू ने शुक्रवार को भी अपनी फलों की दुकान पर पहुचे और ग्राहकों को उनके आर्डर के अनुसार फल और अन्य चीजें बेचने लगे।यह सिलसिला चल ही रह था कि अचानक गुरुवार को गाली गलौज और धमकाने वाले पुलिसकर्मी पुनः दुकान पर आ धमके और जब तक शम्भू कुछ समझ पाते गाली देते हुए आए पुलिसकर्मी ने उसपर डंडे बरसाना शुरू कर दिए और इस दौरान वो लगातार गालियां भी देते रहे। शम्भू पर ताबड़तोड़ डंडे बरस रहे थे और वो सिर्फ छोड़ छोड़ दीजिए और माफी ही मांगता रहा पर वर्दी वाले गुंडे ताबड़तोड़ डंडे बरसाते रहे और तमाशबीन उसे पीटते देखते रहे। खाकी वालो की इस बर्बरता से  वह बुरी तरह जख्मी हो गया।                                   
इस घटना के बाद परिजनों ने जख्मी दुकानदार को गोगरी रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया है। इस मामले में गोगरी थाना ने कहा कि दुकानदार की तरफ से कोई लिखित शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। अगर मामला सही है जो रिपोर्ट दर्ज कराई जाए। मामले में जो लोग दोषी होंगे इनपर कार्रवाई की जाएगी।


वही, अब खगड़िया पुलिस ने यह दूसरा कांड कर पूरे प्रशासनिक अमले पर फिर से सवाल खड़ा कर दिया है। वही पुलिस गुंडागर्दी के शिकार पीड़ित शम्भू  ने बताया कि मुफ्त में ढाई किलो आम नहीं देने पर उन्हें गोगरी थाना के पुलिसकर्मी ने बुरी तरह पीटा और धमकी भी दी। बकौल शम्भू के मेरे शरीर पर इतना डंडा बरसाया गया कि पुलिसवालों के 2-2 डंडे टूट गए पर उनको जरा भी रहम नही आया और जब तक उनका गुस्सा शांत नही हुआ मुझे जानवरो की तरह पीटते रहे।