निगरानी के हत्थे चढ़ा 20 हजार रिश्वत लेते अररिया में बीईओ, सेवा पुस्तिका सत्यापन खातिर घर मे ले रहे थे रिश्वत का पैसा

0
84

पटना Live डेस्क। बिहार में निगरानी विभाग द्वारा रिश्वतखोर सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ मुहिम लगातार जारी है। इसी कड़ी में बिहार के अररिया में सेवा पुस्तिका सत्यापन करने के एवज में 20 हजार रुपये रिश्वत लेते बीईओ मंसूर आलम निगरानी के हत्थें चढ़े। गुरुवार की देर शाम पटना निगरानी की टीम ने अररिया शहर के एडीबी चौक स्थित प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी मंसूर आलम के भाड़े के मकान में छापेमारी कर उन्हें रिश्वत ली गई रकम के साथ गिरफ्तार किया।
निगरानी की टीम जिस वक्त उनके आवास पर छापेमारी के लिए पहुंची उस वक्त वहां करीब आधा दर्जन से अधिक शिक्षक अपने-अपने काम को लेकर मौजूद थे। गिरफ्तारी के बाद टीम उसे सीधे पटना लेकर चली गई। बताया गया कि अररिया प्रखंड के तरौना भोजपुर पंचायत के उत्क्रमित मध्य विद्यालय अररबाड़ी के शिक्षक सह बिहार राज्य प्रारंभिक शिक्षक संघ के जिला प्रधान सचिव अजीत कुमार सिंह ने उन्हें सेवा पुस्तिका के सत्यापन के लिए 20 हजार रुपये रिश्वत की रकम दी थी।।                                                             हालांकि अजीत कुमार सिंह ने नौ जनवरी 2018 को निगरानी में बीईओ के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी थी। इसके बाद निगरानी की टीम ने मामले का सत्यापन किया और फिर छापेमारी कर रिश्वत की रकम के साथ उसे धर दबोचा। यहां बता दें कि बीईओ मंसूर आलम अररिया के अलावा जोकीहाट व सिकटी प्रखंड़ के प्रभार में थे और वे अररिया शहर के एडीबी चौक स्थित एक किराये के मकान में रहते थे।निगरानी टीम के डीएसपी मो. जमीरउद्दीन ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए कहा कि शिक्षक अजीत कुमार सिंह की शिकायत के आलोक के मामले का सत्यापन किया गया और फिर उसे रिश्वत की रकम के साथ गिरफ्तार कर लिया गया।