BiG Breaking – तथाकथित 50 आईआईटियन वाली पार्टी “बहुजन आज़ाद पार्टी” में दंगल-दो फाड़ हुई  पार्टी, संस्थापक सदस्य सोशल मिडिया पर पूछ रहे है सवाल

0
100

पटना Live डेस्क। देश की सियासत में धमाकेदार एंट्री लेने वाले बाप यानी बहुजन आजाद पार्टी दो फाड़ हो गई है। इस बात की जानकारी किसी सूत्र ने नही बल्कि इस पार्टी के संस्थापक सदस्यों में शुमार विक्रांत वत्सल
ने ही खुद अपने सोशल मीडिया के एकाउंट से शेयर किया है। साथ खुद ही सवाल करते है ?

अरे #BAP तो आनन फानन में मेरे ’11 करोड़ के घोटाले’ के पर्दाफाश बाले मीटिंग को प्रभावित करने के लिए जैसे तैसे 23 मासूम बच्चों के फेसबुक प्रोफाइल फोटो को उठाकर #50* चेहरे जुटाने में कामयाब हो गये हैं?

तथाकथित IITian* राष्ट्रीय अध्यक्ष नवीन कुमार, नवीन कुमार के जीजा जी (महा सचिव) और नवीन कुमार के बड़े भाई (कोषाध्यक्ष) ने मुझे पार्टी से बाहर कर दिया है? सनसनी फोटो को देखकर मैं ऐसा ही समझूँ?

बिखरने के कगार पर “बाप”

पार्टी द्वारा या यूं कहके की पार्टी प्रेसीडेंट नवीन कुमार 50 IITian का नाम घोषित करने के मुद्दे पर लगातार
सवालों के बौछार से लतपथ नवीन ने एक पोस्टर जारी किया है।

इस पोस्टर में विक्रान्त वत्सल का नाम नही है, पोस्टर में कही विक्रान्त की तस्वीर नही है। इसी पोस्टर को साझा करते हुए विक्रान्त सवाल करते है। साथ ही पार्टी रजिस्ट्रेशन से जुड़े डोक्युमेंट्स और अखबारों में उसकी घोषणा जिसमे उनके नाम और पद की घोषणा को साझा किया है। नवीन द्वारा साझा किए गए पार्टी के पोस्टर में लिखा – क्रूसेडर्स टीम -A पर इस टीम में विक्रान्त नही है।

दरअसल पिछले कुछ महिने से बहुजन आजाद पार्टी की चर्चा काफी जोर-शोर से है। ऐसा कहा जा रहा है कि 50 IITian  ने अपनी नौकरी छोड़ कर पार्टी बनाई है।  जिसका मुख्य मकसद है दलितों के लिए काम करना है। पार्टी के जरिए ये लोग दलितों की समस्या का समाधान करना चाहते हैं। 2020 में बिहार में होने वाले विधान सभा चुनाव चुनाव में यह लोग अपना किस्मत आज़माना चाहते हैं। सोशल मीडिया पर इस पार्टी की काफी चर्चा है। कुछ लोग इस पार्टी की तारीफ कर रहे हैं तो कुछ लोग आलोचना करने में लग गए हैं।  कुछ लोगों का कहना है कि इस पार्टी के पीछे आरएसएस का हाथ है, क्योंकि बिहार विधान सभा चुनाव में आरएसएस दलित वोट का विभाजन करना चाहता है।

अगर ऐसा हुआ तो आरजेडी जैसी बड़ी पार्टी को नुकसान हो सकता है, लेकिन बहुजन आज़ाद पार्टी के सदस्य ऐसे आरोप को निराधार बताया करते थे। इस पार्टी के चार सदस्य विक्रांत वत्सल,विद्रोही नवीन, सरकार अखिलेश और प्रशांत कुमार मुख्य चेहरे है।
आपको बता दें कि विक्रांत और विद्रोही नवीन ने IIT दिल्ली में पढ़ाई की है। सरकार अखिलेश IIT खड़गपुर से जबकि प्रशांत कुमार दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है।