बड़ी खबर- औरंगाबाद हिंसा भड़काने मामले में गिरफ्तार अनिल थाने से भागा या भगाया गया ?

पटना Live डेस्क। बिहार के औरंगाबाद शहर हुए उपद्रव मामले में एक हिंदू नेता के पुलिस हिरासत से फरार होने को लेकर विपक्ष के नेता तेजस्वी द्वारा ट्वीट किये जाने के बाद यहां प्रशासनिक महकमे मे सनसनी फैल गयी है। इस मामले में पूछे जाने पर डीजी  गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि उन्हे ऐसी जानकारी नही मिली है, यदि ऐसा हुआ होगा तो कानून अपना काम करेगा। जिस हिंदू युवा वाहिनी के नेता अनील सिंह की पुलिस हिरासत से फरार होने की बात की जा रही है, वही नेता पिछले पांच सालो से शहर मे निकलने वाले रामनवमी जूलूस का मुख्य कर्ता धर्ता रहा है और उसी के द्वारा शहर में  रामनवमी जुलूस की शुरूआत कराने वाले हिंदू युवा वाहिनी करायी गयी है।

अनिल पर भी शहर में हिंसा भड़काने का आरोप है। में गिरफ्तार किया। अनिल सिंह ही पिछले पांच सालों से जुलूस के मुख्य कर्ताधर्ता रहे हैं। नगर थाने से अनिल के फरार होने का मामला संदेहासपद लग रहा है। शहर में चर्चा है कि अनिल सिंह स्वयं नगर थाने से पुलिस को चकमा देकर भाग गया या फिर पुलिस ने ही उसे भगा दिया।  लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि आखिर अनिल सिंह थाने से भागा कैसे। शहर के चप्पे-चप्से पर हिंसा के बाद सशस्त्र बलों की तैनाती की गई थी। सूबे के तमाम बड़े पुलिस महकमे के अधिकारी शहर में कैम्प कर रहे थे।

बीएमपी के डीजी गुप्तेश्वर पाण्डेय, आईजी, डीआईजी, प्रमंडलीय आयुक्त सभी शहर में उस दिन मौजूद थे तो आखिल कैसे अनिल थाने से फरार हो गया और पुलिस को भनक तक नहीं लगी।