‘इलाज की कमी के चलते नहीं मरेगा कोई बच्चा,चाहे मुझे भीख ही क्यों न मांगनी पड़े’- अश्विनी चौबे

पटना Live डेस्क. टाटा ट्रस्टी के सहयोग से जल्दी ही बिहार..झारखंड और उत्तरप्रदेश राज्यों में जल्दी ही कैंसर उन्मूलन के लिए एक बड़ा अभियान चलाया जाएगा…इन तीनों राज्यों में कैंसर के ज्यादा मरीज हैं…ये बातें भागलपुर पहुंचने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कही…उन्होंने बताया कि टाटा ट्रस्टी के लोगों से इस सिलसिले में सकारात्मक बातचीत हुई है… केंद्रीय मंत्री बनने पर चौबे पहली बार अपने गृह नगर भागलपुर पहुंचे थे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया…उन्होंने कहा कि कैंसर जैसे असाध्य रोगों से पीड़ित लोगों की भरपूर मदद करने की मेरी पूरी कोशिश रहेगी.. इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री से भी आग्रह करने की बात कही.. ताकि इलाज के अभाव में किसी गरीब की मौत न हो सके.. उन्होंने कहा कि मंत्रालय के अधिकारियों को टाटा ट्रस्टी के साथ बैठक कर योजना बनाने को कहा गया है.. उन्होंने कहा कि बिहार के 38 ज़िलों में कैंसर का पता लगाने वाले जांच केंद्र स्थापना की भी योजना है.. फिलहाल लोग जांच के लिए भी मुंबई का रुख करने को मजबूर हैं लेकिन तब तक मरीज की हालत बिगड़ चुकी होती है..

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हमारी कोशिश है कि इसके लिए रीजनल हब बने और इसकी शुरुआत भागलपुर से हो.. उन्होंने कहा कि टाटा ट्रस्टी इसके लिए बगैर किसी फायदे के तैयार हैं और उन्होंने सर्वे के लिए चार हफ्ते का वक्त मांगा है.. यह हो जाने पर कैंसर डिटेंशन, कीमोथेरेपी यहीं हो सकेगी.. चौबे ने कहा कि वो जल्द ही इंदिरा गांधी कैंसर इंस्टीच्यूट का दौरा करने वाले हैं.. केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि शिशु और मातृ मृत्यु दर कम करना भी सरकार की प्राथमिकताओं में है.. इसके लिए भी कापस फंड बनाने की पहल हो रही है.. मंत्रालय इसके लिए प्रस्ताव बना रहा है.. उन्होंने कहा कि बच्चा चाहे किसी भी तबके का हो, इलाज की कमी से उन्हें मरने नहीं दिया जाएगा, भले ही इसके लिए मुझे भिक्षाटन क्यों न करना पड़े.. उन्होंने घोषणा की कि भागलपुर में अगले महीने सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की बुनियाद रखी जाएगी.. संभवत: उसमें प्रधानमंत्री भी शामिल हों…