सृजन महाघोटाले के मुख्य आरोपी मनोरम देवी के बेटे अमित को हो गया था अंदेशा “महाघोटाले का जल्द होगा राजफाश” तभी तो लिखा था …

पटना Live डेस्क। सूबे की अब तक के सुशासन सरकार की चूले हिला देने वाले सबसे बड़े सृजन महाघोटाले के मुख्य आरोपी मनोरम देवी के बेटे अमित कुमार को इस बात का पहले ही एहसास हो गया था कि अब यह साज़िश खुलेगी। इस बाबत अमित द्वारा 3 मई को अपने फेसबुक वाल पर किया गया अपडेट खूब वायरल हो रहा है। जब तक सृजन की कर्ताधर्ता मनोरम देवी रही यह घोटाला पूरी गोपनीयता से जारी रहा था। लेकिन इसी वर्ष फरवरी में मनोरमा देवी की मौत के बाद उसके सबसे विश्वस्त और पूरे खेल का मास्टर माइंड रहा नवीन को यह एहसास हो गया था कि सृजन का कारोबार अब ज्यादा दिनों तक चलने वाला नहीं है। सृजन बैंक का कारोबार देखने वाला नवीन तब बीमार पड़ गया, जब उसे पता चला कि बैंक को पैसे देने के नाम पर विपिन शर्मा आनाकानी कर रहा है। उसे एहसास हो गया था कि अब घोटाला उजागर हो जाएगा। अचानक दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई। नवीन की मौत के बाद अमित को भी अहसास होने लगा था कि अब यह भाड़ा फुट कर रहेगा। इसी ऊपापोह में अमित कुमार ने बीते 3 मई को अपने फेसबूक वाल पर एक पोस्ट किया था।

बीते 3 मई को अमित कुमार ने अपने फेसबुक वाल पर लिख दिया था ‘मतलब निकल गया तो पहचानते नही, ऐसे चले जा रहे हैं, जैसे हमें जानते नही ‘।

निश्चित रूप से अमित कुमार ने यह पोस्ट विपिन शर्मा और उनलोगों को कोट करके लिखा होगा जिन्होंने सृजन से माल तो बहुत बनाये पर मनोरमा देवी की मौत के बाद वो सारे लोग बदल गए,मनोरमा देवी के द्वारा लिए गए पैसे को पचाने के लिए वो सृजन से नाता तोड़ने लगे होंगे। फिर उसका डर सही साबित हुआ और सृजन घोटालेबाजों के आपसी कलह के कारण ही इतने बड़े घोटाले का पर्दाफाश हो सका है ।