निगरानी टीम ने आरा के डीसीएलआर को 20 हजार रिश्वत लेते दबोचा

0
12

पटना Live डेस्क। सुबे के सरकारी सेवकों के घुसख़ोरी के खिलाफ मुहिम को लगातार धारदार बनाकर आम लोगों में निगरानी के प्रति विश्वास को लगातार पुख्ता करने की कार्रवाई का नतीजा है को आम बिहारी भी लगातार निगरानी विभाग के पास पहुच रहे हैं।भ्रष्टाचार पर सरकार की जीरो टॉलरेंस के लिए निगरानी टीम पुरी तरह से एक्शन में हैं।इसी कड़ी में पीरो के डीसीएलआर प्रभाष कुमार को 20 हजार रूपये रिश्वत लेते दबोचा गया हैं।

डीजी निगरानी के अनुसार जनता में जागरूकता एवं निगरानी के प्रति विश्वास का देन है की आएं दिन भ्रष्टाचार में लिप्त गिरफ्तार हो रहें हैं। बीते मंगलवार को निगरानी टीम ने भ्रष्टाचारियों को गिरफ्तार करने में जहां हैट्रीक लगाया। वहीं भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान जारी रखते हुये बुधवार को भी निगरानी टीम के डीएसपी मुन्ना प्रसाद के नेतृत्व में पीरो में पदस्थापित डीसीएलआर प्रभाष कुमार को भोजपुर जिलाधिकारी कार्यालय स्थित किसान भवन के समीप 20 हजार रूपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया।


डीजी निगरानी ,रविन्द्र कुमार ने बताया की गिरफ्तार डीसीएलआर प्रभाष कुमार के खिलाफ सिकरहटा के धनंजय कुमार ने लिखित शिकायत किया था की उप समाहर्ता न्यायालय में चल रहें वाद संख्या -1 /16-17 को खारिज करने के लिए 50 हजार रूपये रिश्वत की मांग किया था। जांच में आरोप सत्य पाया गया ,इसके बाद धावा दल गठित किया गया।आरोपी डीसीएलआर प्रभाष कुमार 20 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार हुये हैं। पूछताछ किया जा रहा हैं और यह जानकारी की जा रहीं हैं की इस भ्रष्टाचार में कोई और तो लिप्त नहीं हैं।डीजी रविन्द्र कुमार ने कहां की आम लोग शिक्षित हो चुके है और अब अपने अधिकारों को समझने लगे हैं।सरकार की भ्रष्टाचार पर नीति जीरो टॉलरेंस की हैं।निगरानी विभाग के प्रति लोगों में विश्वास बढ़ा हैं और निगरानी विभाग भी आम लोगों के विश्वास पर खड़ा उतरते हुये भ्रष्टाचारियों को गिरफ्तार कर जेल भेज रहीं हैं।

Loading...