Big News (वीडियो) 3 साल के मासूम बच्चे का  अपहरण कर हत्या से गोपालगंज में मचा कोहराम, थानेदार के निलंबन खातिर ग्रमीणों का हंगामा

पटना Live डेस्क। बिहार के गोपालगंज जिले के भोरे गाँव में एक तीन वर्षीय मासूम बच्चे का अपहरण कर उसकी निर्मम हत्या कर शव को झाड़ियों में फेंक दिए जाने से कोहराम मच गया है।शनिवार की सुबह शव बरामद होते ही ग्रामीणों का गुस्सा भोरे पुलिस की कार्यशैली पर भड़क गया और लोगों भोरे चारमुहानी को जाम कर आगजनी शुरू कर दी।मामले की गभीरता को देखते हुए हथुआ अनुमंडल के सभी थानों को बुला लिया गया। मामले की गंभीरता और लोगों की मांग को देखते हुए छपरा से डॉग स्कॉयड की टीम को बुलाया गया। देर शाम तक लोग भोरे थानाध्यक्ष के निलंबन की मांग को लेकर हंगामा करते रहे।                                                                              पुलिस समाचार लिखे जाने तक शव को अपने कब्जे में नहीं ले सकी थी। बताया जाता है कि भोरे थाना क्षेत्र के रकबा उत्तर टोला गांव निवासी धर्मवीर गोंड का तीन वर्षीय पुत्र अनिकेत कुमार घर के पास से ही शुक्रवार की सुबह अचानक लापता हो गया। काफी खोजबीन के बाद भी बच्चे का कहीं कोई अता पता नहीं चल सका। शनिवार की शाम लगभग चार बजे इस मामले की लिखित सूचना भोरे थाना को दी गयी। सूचना मिलने के बाद भी भोरे पुलिस ने बच्चे की बरामदगी को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की।                                              इधर,शनिवार की सुबह लगभग छह बजे धर्मवीर के निर्माणाधीन मकान के पास उगे झाड़ियों में से बच्चे का शव बरामद किया गया।जिसकी वीभत्स तरीके से हत्या कर दी गयी थी। घटना की जानकारी भोरे थाना को दी गयी।लेकिन सूचना मिलने के बाद भी पुलिस घटनास्थल पर नहीं पहुंची बाद में ग्रामीण थाना गये,तब पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। पुलिस के पहुंचते ही  लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। साथ ही भोरे चारमुहानी को जाम करते हुए आगजनी की बाद में मामले की गंभीरता को देखते हुए हथुआ अनुमंडल के सभी थानों को बुलाया गया। लेकिन ग्रामीण शांत नहीं हुए। वहीं पूरे दिन सड़क जाम रहने के कारण लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। ग्रामीणों का कहना था कि भोरे थानाध्यक्ष और एएसआई को निलंबित करने के साथ ही डॉग स्कॉयड की टीम को बुलाया जाय। ग्रामीणों की मांग पर शनिवार की शाम डॉग स्कॉयड की टीम भी पहुंच कर मामले की जांच की। डॉग स्कॉयड टीम के आने के बाद सड़क जाम भी समाप्त हो गया। वहीं ग्रामीण भोरे थानाध्यक्ष के निलंबन की मांग को लेकर शव को नही उठने दिया। शव को कब्जे में लेने के लिए पुलिस की टीम अभी भी प्रयास कर रही है। घटना के कारणों का अभी तक खुलासा नहीं पाया है। वहीं परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है।