बडी खबर (एक्सक्लूसिव) – बबलू दुबे हत्याकांड के दो शूटर ग़िरफ़्तार, कोर्ट में झोले से हथियार निकालकर देने वाली महिला की भी है तलाश…

0
128

पटना Live डेस्क। कुख्यात गैंगेस्टर बबलू उर्फ मिथिलेश दुबे हत्याकांड में बेतिया पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। बबलू को बेतिया कोर्ट परिसर में मार गिराने में शामिल तथाकथित 2 शूटर को विजय और सूरज को गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों गिरफ्ताकर शूटर मोतिहारी के रहने वाले है। मिली जानकारी के अनुसार कुख्यात राहुल सिंह उर्फ राहुल मिखिया के निर्देश पर इन शूटरों ने बबलू दुबे की हत्या की है। वही इस बाबत बेतिया एसपी विनय कुमार करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस।

उल्लेखनीय है कि पटना Live ने आपको बबलू दुबे की हत्याकाण्ड में अपनों संलिप्तता के बाबत कुणाल सिंह के कबुलनामे को सुनवाया था।

Exclusive(वीडियो) – अब जरा कुणाल सिंह जो बबलू दुबे की हत्या करने वाले दावे को सुनिए…

Exclusive(वीडियो) – अब जरा कुणाल सिंह जो बबलू दुबे की हत्या करने वाले दावे को सुनिए…


मिली जानकारी के अनुसार 11 मई को बेतिया कोर्ट परिसर में हुए कुख्यात बबलू दुबे की हत्या  में पैसों के लेन देन के विवाद का मामला सामने आया है। जानकारी मिली है उसके मुताबिक पैसे के लेन देन में हुए मनमुटाव के बाद दुबे के ही पुराने शागिर्दों ने उसकी गोली मार कर हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक नेपाल के प्रसिद्ध व्यवसायी सुरेश केडिया के अपहरण में वसूले गये पांच करोड़ की फिरौती की राशि हवाला के जरिये दिल्ली मे पेमेंट की गयी थी। पेमेंट के बंटवारे को लेकर ही बब्लू दुबे की उसके शागिर्दों से रंजिश हुई थी। बबलू की हत्या के लिए मोतिहारी बाल सुधार गृह के बंदी को हायर किया गया था जिसमे मोतिहारी जेल मे बंद राहुल सिंह और मंटु शर्मा हत्यकांड मे फरार कुणाल सिंह की भूमिका सामने आयी है।
राहुल और कुणाल मोतिहारी जेल मे उम्र कैद की सजा काट रहे लक्ष्मी सिंह के शागिर्द है राहुल सिंह मंटु शर्मा की हत्या मामले मे मोतिहारी जेल मे बंद है वहीं कुणाल चकिया के कुंअरपुर पंचायत की मुखिया पति व उसके बेटे की हत्या मामले मे फरार है। बबलू दुबे की हत्या मे एक अज्ञात महिला की भी पुलिस को तलाश है जिसने शूटर्स को झोले से निकाल कर हथियार कोर्ट परिसर में मुहैया कराया था। 26 मई 2016 को सुरेश केडिया का अपहरण हुआ था जिसमे सौ करोड़ की फिरौती मांगी गयी थी, लेकिन सौदा पांच करोड़ मे तय हुआ था  29 मई को पुलिस ने सुरेश केडिया को बरामद किया था। बबलू दुबे की हत्या के दिन ही कुणाल सिंह ने मोतिहारी के पत्रकारों को फोन कर के हत्या की जिम्मेवारी ली थी