Big News -(वीडियो) बिहार के आरा में गैंगवार, कुख्यात हाकिम साथी समेत ढेर, स्टेशन परिसर में मारी गई ताबड़तोड़ कई गोलियां

0
674

पटना Live डेस्क। बिहार में अपराध अपने चरम पर है। वही दूसरी तरफ पुलिस का भय अपराधियों से मानो खत्म सा हो गया है। इसी कड़ी सूबे के आरा रेलवे स्टेशन परिसर में शुक्रवार की रात अपराधियों ने बेहद दबंग प्रॉपर्टी डीलर और उसके दोस्त की गोली मारकर हत्या कर दी। छह अपराधियों ने करीब आठ-दस राउंड  गोलिया दागी। वारदात के बाद अपराधी पैदल ही फरार हो गए। मौके से 9 एमएम एवं 7.65 बोर की पिस्टल के पांच खोखे और एक कारतूस मिला है।  पुलिस गैंगवार, जमीन विवाद एवं ऑटो से वसूली के विवाद को वारदात के कारण मान रही है।
मृतकों की शिनाख्त टाउन थाना क्षेत्र के भलुहीपुर मोहल्ला निवासी हाफिज राइन का बेटा हाकिम राइन एवं बिंद टोली निवासी दिनेश प्रसाद के पुत्र पंकज उर्फ बोतल बिंद के रूप में हुई है।घटना के संबंध में बताया जाता है कि हाकिम व बोतल बिंद शुक्रवार की देर शाम चाय पीने के लिए आरा स्टेशन गये थे। उनके साथ एक अन्य असलम नामक लड़के के होने की भी बात कही जा रही है। इस दौरान स्टेशन परिसर स्थित दुर्गा मंदिर के ठीक पीछे किसी बात को लेकर दो गुटों में वाद-विवाद हो गया। इसके बाद असलम कुछ सामान लाने वहां से कही चला गया।
इसी बीच अचानक दो बाइक पर सवार 6 अपराधी आ धमके और दोनों को गोलियों से भून दिया।वैसे अंधाधुंध फायरिंग करने वाले अपराधियों की संख्या 4 ही बतायी जा रही है।अपराधियों ने हाकिम और बोतल को ताबड़तोड़ कई गोलिया मार दी और फिर हवाई फायरिंग करते हुए मौके से पैदल ही फरार हो गए। घटना के बाद से स्टेशन परिसर में दहशत कायम है। पुलिस को स्टेशन के पास से लावारिस हालत में दो बाइक मिली हैं।
एसपी अवकाश कुमार ने बताया कि पूरे मामले की छानबीन की जा रही है। इस हत्याकांड में शामिल अपराधियों की पहचान की जा रही है। मृतकों के आपराधिक इतिहास को भी खंगाला जा रहा है। मृत हाकिम राइन का आपराधिक इतिहास रहा है। साल 2015 में आरजेडी नेता मो.एकराम के बेटे मो.अब्बू के धरहरा इलाके में हुई हत्या के मामले में आरोपी था। इसके अलावा भी पर हत्या, लूट, छिनतई व आर्म्स एक्ट के आधा दर्जन से अधिक मामले नगर थाना में दर्ज हैं। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। एसपी ने भी गैंगवार की घटना से भी इनकार नहीं किया है।

वही भीड़ भरे स्टेशन परिसर में जिस तरह दुःसाहसिक तरीके से अपराधियों ने डबल मर्डर किया है वह एक बार फिर पुलिस की कार्यशैली पे सवाल खड़ा कर रहा है। तो दूसरी तरफ भोजपुर पुलिस और राजकीय रेल पुलिस के सुरक्षा के दावो की पोल भी खोल रहा है।