निगरानी ने अमीन और उसके सहायक को 11 हजार रिश्वत लेते किया गिरफ्तार,तो बोलेभ्रष्टाचारियों को कोई नहीं बचा सकता -डीजी

पटना Live डेस्क निगरानी ब्यूरो की टीम ने अमीन एवं रिटायर्ड अमिन को 11 हजार रूपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया हैं। सर्वे में नाम दर्ज करने के लिए रिश्वत की मांग किया गया था।निगरानी ,डीजी-रविन्द्र कुमार ने कहां की भ्रष्टाचारियों को कोई नहीं बचा सकता। बेगुसराय जिले में सर्वे सुधार का काम चल रहा हैं ।डंडारी थाना क्षेत्र के राजोपुर गांव निवासी कृष्णदेव चौधरी ने निगरानी ब्यूरो में शिकायत किया की सर्वे में नाम अंकित करने के लिए राघोपुर अंचल अमीन अनिल कुमार 11 हजार रूपये रिश्वत की मांग कर रहें हैं। आरोप के जांच रिपोर्ट आने के बाद डीएसपी मुन्ना प्रसाद के नेतृत्व में धावा दल का गठन किया गया।


बुधवार को शिकायतकर्ता कृष्णदेव चौधरी अंचल अमीन को तयशुदा 11 हजार रूपये देने लगा तो आरोपी अमीन अनिल कुमार ने अपने साथी रिटायर्ड अमीन प्रेम कुमार को रूपये देने के लिया कहां । जैसे ही प्रेम कुमार रूपये लिया निगरानी टीम ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार दोनों को निगरानी टीम पटना लाकर पूछताछ किया।

निगरानी ,डीजी-रविन्द्र कुमार ने बताया की भ्रष्टाचार पर सरकार का नीति पुरी तरह से स्पष्ट हैं ।किसी को बकसने का सवाल ही नहीं उठता । उन्होंने कहां की निगरानी ब्यूरो का निष्पक्ष कार्रवाई से लोगों में विश्वास हैं ।यहीं कारण हैं की प्रति माह भ्रष्टाचार के मामले में लोग गिरफ्तार हो रहें हैं । 57 ट्रैप के सफल कार्रवाई में 63 घुसखोरों को निगरानी ने गिरफ्तार कर जेल भेजा हैं।