बड़ी खबर – बिहार के रोसड़ा हिंसा में दो बीजेपी नेता हिरासत में लिए गए,बाजार में प्रवेश रोक

0
17

पटना Live डेस्क। बिहार समस्तीपुर जिले के रोसडा बाजार में गत 27 मार्च को चैती दुर्गा पूजा के अवसर पर दो समुदाय के बीच विवाद के बाद पथराव और आगजनी में तीन मोटरसाइकिल जलकर खाक हो गई। समस्तीपुर के पुलिस अधीक्षक दीपक रंजन ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के आधार पर शरारती तत्वों की पहचान की जा रही है।अब तक 11 लोगों को पूछताछ के लिए थाना लाया गया है। इसमें दो भाजपा के स्थानीय नेता हैं। पूछताछ के लिए थाना लाए गए लोगों का नाम नहीं बताया गया है। रोसडा बाजार में किसी के प्रवेश रोक लगा दिया गया है।
दरअसल मां दुर्गा की प्रतिमा के विसर्जन करने को ले जाने के दौरान एक समुदाय के कुछ शरारती तत्वों द्वारा चप्पल फेंकने के बाद दूसरे समुदाय के लोगों ने रोसडा बाजार स्थित एक समुदाय के धर्मस्थल पर पथराव किया तथा तीन मोटरसाइकिल में आग लगा दी। घटना की सूचना मिलने पर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए वहां पहुंचे दलसिंहसराय अनुमंडल पुलिस अधिकारी संतोष कुमार और समस्तीपुर नगर इंस्पेक्टर चतुर्वेदी सुधीर कुमार पथराव की चपेट आकर जख्मी हो गए। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। दरभंगा प्रमंडल के आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक, उपमहानिरीक्षक और समस्तीपुर के जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने अतिरिक्त बल के साथ घटनास्थल पहुंचकर हालात को काबू में किया।

इसी प्रकरण में समस्तीपुर में तोड़फोड़ और सौहार्द बिगाड़ने के मामले में गुरुवार को पुलिस ने भाजपा के दो नेताओं को गिरफ्तार किया है। इसमें भाजपा किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य दिनेश झा और बुनकर प्रकोष्ठ के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य मोहन पटवा शामिल हैं। दोनों भाजपा नेताओं को सौहार्द बिगाड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक,रामनवमी के मौके पर निकाले गये जुलूस पर आपत्तिजनक कृत्य के बाद दो दिन पूर्व तोड़फोड़ और सौहार्द बिगाड़ने के मामले में गुरुवार की सुबह पुलिस ने भाजपा के दो नेताओं को उनके आवास से गिरफ्तार किया है। साथ ही अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। वहीं,भाजपा नेताओं के परिजन मामले में फंसाने का आरोप लगा रहे हैं।
वहीं, भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी के बाद भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुशील चौधरी ने बताया कि घटना के वक्त भाजपा के नेता और कार्यकर्ता माहौल को संभालने में जुटे थे। उनकी गिरफ्तारी दुर्भाग्यपूर्ण है। इसके गवाह रोसड़ा के एसडीओ और डीएसपी भी हैं।
वही, दूसरी तरफ सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा और समस्तीपुर जिले में पिछले दो दिनों के दौरान दो समुदाय के बीच झड़प मामलों में अबतक 50 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

 

Loading...